होम कानपुर कानपुर आस-पास अपना प्रदेश राजनीति देश/विदेश स्वास्थ्य खेल आध्यात्म मनोरंजन बिज़नेस कैरियर संपर्क
 
  1. यूपी-गोंडा राम जानकी मंदिर के पुजारी को गोली मारी गई हालत गंभीर,लखनऊ रेफर
  2.      
  3. नोएडा-यमुना एक्सप्रेस वे दनकौर पिकअप गाड़ी का टायर चेंज कर रहे ड्राइवर और हेल्पर को पीछे से आई कार ने कुचला,दोनों की हालत गंभीर
  4.      
  5. रामनगर ,बेतालघाट ,भवाली सहित अन्य स्थानों में किए गए पुलिसकर्मियों के तबादले।
  6.      
  7. कोतवाली में तैनात कांस्टेबल, हेड कांस्टेबल, महिला कांस्टेबल के हुए तबादले
  8.      
  9. नैनीताल वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक एसके मीणा ने दिए तबादले के आदेश।
  10.      
  11. उत्तराखंड-लालकुआं कोतवाली में तैनात कई पुलिसकर्मियों के हुए तबादले।
  12.      
 
 
आप यहां है - होम  »  कानपुर  »  शिशु मृत्यु दर कम करने का प्रयास करें-डीपीएम
 
शिशु मृत्यु दर कम करने का प्रयास करें-डीपीएम
Updated: 11/20/2020 9:24:10 PM Posted By- Rahul dubay orai

शिशु मृत्यु दर कम करने का प्रयास करें-डीपीएम
सीएमओ कार्यालय में नवजात शिशु देखभाल सप्ताह के अंतर्गत कार्यशाला का आयोजन
हिंदुस्तान न्यूज़ एक्सप्रेस जालौन 20 नवंबर 2020।
नवजात शिशु देखभाल सप्ताह के अंतर्गत मुख्य चिकित्सा अधिकारी कार्यालय स्थित अचल प्रशिक्षण केंद्र में चिकित्सकों की जनपद स्तिरीय कार्यशाला का आयोजन किया गया। इसमें मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा० अल्पकना बरतारिया ने एसएनसीयू एवं केएमसी की व्यइवस्थाखयें दुरूस्तच रखने के निर्देश दिये, इसमें राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन (एनएचएम) के जिला कार्यक्रम प्रबंधक (डीपीएम) डॉ प्रेमप्रताप ने कहा कि नवजात शिशु की मृत्यु दर कम करने के लिए हर संभव प्रयास करने होंगे। उत्तर प्रदेश में एक हजार नवजात पर 43 की मृत्यु दर है। नवजात शिशु के स्वास्थ्य के बारे में जागरुक करने के लिए नवजात की आवश्यक देखभाल के साथ कंगारु केयर मदर और स्तनपान को बढ़ावा देने तथा बीमार नवजात की समय से पहचान सुनिश्चित करनी होगी। शिशु मृत्यु दर रोकने की जिम्मेदारी गंभीरता से निभानी होगी।
उन्होंने कहा कि प्रसव अस्पताल में ही कराए जाए और प्रसव के बाद 48 घंटे तक मां और शिशु को उचित देखभाल के लिए चिकित्सालय में भी रोके। जन्म के तत्काल बाद नवजात का वजन लें और उसे विटामिन के का इंजेक्शन लगवाए। शिशु के तापमान को स्थिर रखने के लिए कंगारु केयर मदर (केएमसी) की विधि को भी बढ़ावा दिया जाए।
माताओं को प्रसव केंद्र पर ही स्तनपान को बढ़ावा देने के लिए जागरुक किया जाए। उन्हें बताया जाए कि कुपोषण और संक्रमण के बचाव के लिए छह महीने तक केवल मां का दूध ही पिलाए। शहद, घुट्टी, पानी आदि कतई न पिलाए। उन्होंने कहा कि होमबेस्ड न्यू बोर्न केयर (एचबीएनसी) कार्यक्रम के लिए आशाओं की मदद ली जाए। स्वच्छता को बढ़ावा देने वाले भी कार्यक्रम किए जाए। कार्यशाला में जिले के सीएचसी, पीएचसी के साथ जिला और महिला अस्पताल से आए डाक्टर मौजूद रहे।

Share this :
   
State News से जुड़े हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए HNS के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें
 
प्रमुख खबरे
नुक्कड़ नाटक के जरिए यातायात नियमों की पालन हेतु दी गई जानकारी
मेट्रो कार्य प्रगति व प्रदूषण कमी के लिए एंटी स्मॉग गन देख कमिश्नर ने जताई संतुष्ठि
दुकानदारों को मास्क लगाने के लिए किया जागरूक
एडीजी जोन ने वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक कार्यालय का किया औचक निरीक्षण
पुलिस फ्लेगडे के उपलक्ष्य में एडीजी जोन ने किया कार्यालय में ध्वजारोहण
 
 
 
Copyright © 2016. all Right reserved by Hindustan News Express | Privecy policy | Disclimer Powered By :