होम कानपुर कानपुर आस-पास अपना प्रदेश राजनीति देश/विदेश स्वास्थ्य खेल आध्यात्म मनोरंजन बिज़नेस कैरियर संपर्क
 
  1. दिल्ली-कब तक दी जायेगी भारतियों को फ्री वैक्सीन- राहुल गांधी
  2.      
  3. दिल्ली-आईआईटी-2020 ग्लोबल समिति को आज सम्बोधित करेंगे प्रधानमंत्री मोदी
  4.      
  5. दिल्ली-रेपो रेट तथा रिर्वस रेपो रेट में नही हुआ कोई बदलाव
  6.      
  7. दिल्ली- विरोध कर रहे किसानों को लेकर हुई हाईलेवल बैठक
  8.      
  9. दिल्ली- शंघाई सहयोग संगठन बैठक में पीएम मोदी नही होंगे शामिल
  10.      
  11. दिल्ली-अब मोबाइल पर लैंडलाइन से बात करने पर लगना होगा जीरो
  12.      
  13. पंजाब-पंजाब में कल से लगेगा रात का कफ्र्यू
  14.      
  15. उत्तर प्रदेश- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वाराणसी पहुंचे
  16.      
  17. यूपी-गोंडा राम जानकी मंदिर के पुजारी को गोली मारी गई हालत गंभीर,लखनऊ रेफर
  18.      
  19. नोएडा-यमुना एक्सप्रेस वे दनकौर पिकअप गाड़ी का टायर चेंज कर रहे ड्राइवर और हेल्पर को पीछे से आई कार ने कुचला,दोनों की हालत गंभीर
  20.      
  21. रामनगर ,बेतालघाट ,भवाली सहित अन्य स्थानों में किए गए पुलिसकर्मियों के तबादले।
  22.      
  23. कोतवाली में तैनात कांस्टेबल, हेड कांस्टेबल, महिला कांस्टेबल के हुए तबादले
  24.      
  25. नैनीताल वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक एसके मीणा ने दिए तबादले के आदेश।
  26.      
  27. उत्तराखंड-लालकुआं कोतवाली में तैनात कई पुलिसकर्मियों के हुए तबादले।
  28.      
 
 
आप यहां है - होम  »  स्वास्थ्य  »  अस्वस्थ जीवन शैली के कारण कानपुर के युवाओं में बढ़ रही है हृदय सम्बंधित बीमारियां
 
अस्वस्थ जीवन शैली के कारण कानपुर के युवाओं में बढ़ रही है हृदय सम्बंधित बीमारियां
Updated: 1/8/2021 6:32:52 AM By Reporter- rajesh kashyap kanpur

अस्वस्थ जीवन शैली के कारण कानपुर के युवाओं में बढ़ रही है हृदय सम्बंधित बीमारियां
हिंदुस्तान न्यूज़ एक्सप्रेस कानपुर | आधुनिक जीवन शैली के साथ टेक्नोलॉजी, इंटरनेट की सुविधा के कारण कानपुर और इसके आसपास के जिलों में लोग विशेष रूप से युवा पहले से कहीं अधिक निष्क्रिय हो गए हैं।  डॉ अभिनीत गुप्ता, कंसल्टेंट इंटरवेंशनल कार्डियोलॉजी, रीजेंसी सुपरस्पेशलिटी अस्पताल, कानपुर बताया कि वह गतिहीन जीवन शैली के कारण 21-40 वर्ष की आयु के लोगो में हृदय संबंधी मुद्दों में वृद्धि देख रहे है और कहा है कि लंबे समय तक बैठे रहने से हृदय रोग सहित कई स्वास्थ्य परिणाम खराब होते हैं, जैसे की टाइप 2 मधुमेह और कैंसर।
विभिन्न रिपोर्टों के अनुसार, 1950 के बाद सेडेंटरी नौकरियों यानी एक जगह बैठे रहने वाली नौकरियों मे 83 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। शारीरिक रूप से सक्रिय रहने वाली नौकरियां अब भारतीय कार्यबल के 20 प्रतिशत से भी कम है। युवा आबादी में अल्कोहल, धूम्रपान, खराब और गतिहीन जीवन शैली, कुछ ऐसे कारक हैं जो न केवल मधुमेह और उच्च रक्तचाप के लिए जोखिम को बढ़ाते हैं, बल्कि लंबे समय में हृदय की कार्यप्रणाली को भी प्रभावित करते हैं।
डॉ अभिनीत गुप्ता, कंसल्टेंट इंटरवेंशनल कार्डियोलॉजी, रीजेंसी सुपरस्पेशलिटी अस्पताल, कानपुर ने कहा “हृदय संबंधी समस्याएं या दिल का दौरा होना पहले बुजुर्ग समुदाय से जुड़ी थी। लेकिन, आजकल 20, 30 और 40 के दशक के लोग दिल की बीमारियों से पीड़ित हो रहे हैं। हम न केवल कानपुर में बल्कि इटावा और औरेया में भी लगभग 15% युवा लोगो द्वारा में हृदय संबंधी समस्याएं देख रहे हैं। जेनेटिक प्रकृति और पारिवारिक इतिहास के अलावा, युवा की खराब जीवन शैली, तनाव, अनियमित नींद के पैटर्न सबसे आम और जोखिम वाले कारक हैं जिनके कारण जिनके वे दिल की बीमारियों का शिकार हो रहे है”।

Share this :
   
State News से जुड़े हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए HNS के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें
 
प्रमुख खबरे
वैक्सीन जागरूकता को हुआ रैली का आयोजन
दो सप्ताह लगातार आए खांसी तो न करे लापरवाही
टीबी हारेगा देश जीतेगा अभियान में प्राइवेट डाक्टरों का सहयोग मांगा
वर्चुअल माध्यम से हुआ 100 शैय्या जिला संयुक्त चिकित्सालय का असिस्मेंट
फर्जी काल और मैसेज से रहें सावधान विभाग द्वारा नहीं की जा रही काल-सीएमओ
 
 
 
Copyright © 2016. all Right reserved by Hindustan News Express | Privecy policy | Disclimer Powered By :