होम कानपुर कानपुर आस-पास अपना प्रदेश राजनीति देश/विदेश स्वास्थ्य खेल आध्यात्म मनोरंजन बिज़नेस कैरियर संपर्क
 
  1. प्रशासन ने जारी किया अलर्ट
  2.      
  3. धौली नदी में बाढ़ से हरिद्वार तक बड़ा खतरा
  4.      
  5. उत्तराखंड के चमोली जिले ग्लेशियर फटा
  6.      
  7. दिल्ली-कब तक दी जायेगी भारतियों को फ्री वैक्सीन- राहुल गांधी
  8.      
  9. दिल्ली-आईआईटी-2020 ग्लोबल समिति को आज सम्बोधित करेंगे प्रधानमंत्री मोदी
  10.      
  11. दिल्ली-रेपो रेट तथा रिर्वस रेपो रेट में नही हुआ कोई बदलाव
  12.      
  13. दिल्ली- विरोध कर रहे किसानों को लेकर हुई हाईलेवल बैठक
  14.      
  15. दिल्ली- शंघाई सहयोग संगठन बैठक में पीएम मोदी नही होंगे शामिल
  16.      
  17. दिल्ली-अब मोबाइल पर लैंडलाइन से बात करने पर लगना होगा जीरो
  18.      
  19. पंजाब-पंजाब में कल से लगेगा रात का कफ्र्यू
  20.      
  21. उत्तर प्रदेश- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वाराणसी पहुंचे
  22.      
  23. यूपी-गोंडा राम जानकी मंदिर के पुजारी को गोली मारी गई हालत गंभीर,लखनऊ रेफर
  24.      
  25. नोएडा-यमुना एक्सप्रेस वे दनकौर पिकअप गाड़ी का टायर चेंज कर रहे ड्राइवर और हेल्पर को पीछे से आई कार ने कुचला,दोनों की हालत गंभीर
  26.      
  27. रामनगर ,बेतालघाट ,भवाली सहित अन्य स्थानों में किए गए पुलिसकर्मियों के तबादले।
  28.      
  29. कोतवाली में तैनात कांस्टेबल, हेड कांस्टेबल, महिला कांस्टेबल के हुए तबादले
  30.      
  31. नैनीताल वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक एसके मीणा ने दिए तबादले के आदेश।
  32.      
  33. उत्तराखंड-लालकुआं कोतवाली में तैनात कई पुलिसकर्मियों के हुए तबादले।
  34.      
 
 
आप यहां है - होम  »  आध्यात्म  »  कुंती व द्रोपदी नारी जाति के लिये आदर्श का प्रतीक: बलरामदास महाराज
 
कुंती व द्रोपदी नारी जाति के लिये आदर्श का प्रतीक: बलरामदास महाराज
Updated: 2/14/2021 10:21:56 PM By Reporter- rajesh kashyap kanpur

कुंती व द्रोपदी नारी जाति के लिये आदर्श का प्रतीक: बलरामदास महाराज
हिंदुस्तान न्यूज़ एक्सप्रेस कानपुर। शास्त्री नगर स्थित श्रीरामलला गोपाल मन्दिर में 19वें श्रीमद्भागवत कथा के दूसरे दिन कथा वाचक  राम नारायण मिश्र द्वारा देहूती करदन कथा, कपिल जन्म, सांख्य योग कथा, महाराज सागर की कथा युधिष्ठर, भीष्म वृतांत अष्वाथामा द्वारा द्रोपदी पुत्रो का वध बिदुर मैत्री वृतांत कथा का वाचन हुआ। 
श्रीमद्भागवत कथा के द्वितीय दिन पनकी महन्त जितेन्द्र गिरी जी महाराज व पूर्व आईएएस अधिकारी वेद प्रकाश वर्मा सम्मलित हुए और भगवान की पूजा अर्चना की। 108 बलरामदास महाराज ने कुंती चरित्र का वर्णन करते हुए बताया कि कुंती ने भगवान से दुःख मांगा क्यों कि कुंती ने कहा है कि दुःख में भगवान का स्मरण रहता है जबकि सुख आने पर भगवान विस्मरण हो जाते है। इस लिये कुंती एक आर्दष नारी है। इसी तरह द्रोपदी पुत्रा को वध करने वाले अष्वास्थामा को सजा देने के बारे में जब पाण्डव ने पूछा तो द्रोपदी ने अष्वास्थामा को गुरूपुत्र होने की बात कह क्षमादान दे दिया था। जिससे यह प्रतीत होता है कि द्रोपदी एक उदार व महान स्त्री थी और ऐसी स्त्रियां हमारी भूमि पर जन्म् लेकर उन्होंने इसे पावन बना दिया। इसी तरह भीष्म का नाम भीष्म नही बल्कि उनका नाम देववृत्त था। पिता के लिये उन्होंने एक ऐसी प्रतिज्ञा ली जिसे संसार में कोई भी नही ले सकता था। पिता को अपना सारा जीवन देने वाले देववृत्त को उनकी सेवा से अभिभूत होकर उन्होंने उन्हें इच्छा मृत्यु का वरदान दिया। इसी प्रतिज्ञा के कारण उन्हें भीश्म का नाम दिया गया। श्रीमद्भागवत कथा के सहयोगियों में मुख्य रूप से पं0 अरूण द्विवेदी, पं0 सोमदत्त द्विवेदी, उमेश शुक्ल, गोपाल जी त्रिपाठी समेत अन्य सहयोगी उपस्थित रहे।

Share this :
   
State News से जुड़े हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए HNS के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें
 
प्रमुख खबरे
साधना से आत्म प्रकाश होता है, उत्पन्न - स्वामी गंगेशानन्द
खाटू श्याम के उत्सव में जमकर थिरके भक्तगण
कृष्ण ने निभाई सुदामा से सच्ची मित्रता:आचार्य पुनीत त्रिपाठी
रुद्राभिषेक के साथ बाबा का तिलकोत्सव आरंभ
सुंदर झांकियों की प्रस्तुति राधा कृष्ण महोत्सव में
 
 
 
Copyright © 2016. all Right reserved by Hindustan News Express | Privecy policy | Disclimer Powered By :