होम कानपुर कानपुर आस-पास अपना प्रदेश राजनीति देश/विदेश स्वास्थ्य खेल आध्यात्म मनोरंजन बिज़नेस कैरियर संपर्क
 
  1. प्रशासन ने जारी किया अलर्ट
  2.      
  3. धौली नदी में बाढ़ से हरिद्वार तक बड़ा खतरा
  4.      
  5. उत्तराखंड के चमोली जिले ग्लेशियर फटा
  6.      
  7. दिल्ली-कब तक दी जायेगी भारतियों को फ्री वैक्सीन- राहुल गांधी
  8.      
  9. दिल्ली-आईआईटी-2020 ग्लोबल समिति को आज सम्बोधित करेंगे प्रधानमंत्री मोदी
  10.      
  11. दिल्ली-रेपो रेट तथा रिर्वस रेपो रेट में नही हुआ कोई बदलाव
  12.      
  13. दिल्ली- विरोध कर रहे किसानों को लेकर हुई हाईलेवल बैठक
  14.      
  15. दिल्ली- शंघाई सहयोग संगठन बैठक में पीएम मोदी नही होंगे शामिल
  16.      
  17. दिल्ली-अब मोबाइल पर लैंडलाइन से बात करने पर लगना होगा जीरो
  18.      
  19. पंजाब-पंजाब में कल से लगेगा रात का कफ्र्यू
  20.      
  21. उत्तर प्रदेश- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वाराणसी पहुंचे
  22.      
  23. यूपी-गोंडा राम जानकी मंदिर के पुजारी को गोली मारी गई हालत गंभीर,लखनऊ रेफर
  24.      
  25. नोएडा-यमुना एक्सप्रेस वे दनकौर पिकअप गाड़ी का टायर चेंज कर रहे ड्राइवर और हेल्पर को पीछे से आई कार ने कुचला,दोनों की हालत गंभीर
  26.      
  27. रामनगर ,बेतालघाट ,भवाली सहित अन्य स्थानों में किए गए पुलिसकर्मियों के तबादले।
  28.      
  29. कोतवाली में तैनात कांस्टेबल, हेड कांस्टेबल, महिला कांस्टेबल के हुए तबादले
  30.      
  31. नैनीताल वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक एसके मीणा ने दिए तबादले के आदेश।
  32.      
  33. उत्तराखंड-लालकुआं कोतवाली में तैनात कई पुलिसकर्मियों के हुए तबादले।
  34.      
 
 
आप यहां है - होम  »  स्वास्थ्य  »  गुर्दे के कोनिक रोगियों की संख्या हुई 1 लाख
 
गुर्दे के कोनिक रोगियों की संख्या हुई 1 लाख
Updated: 3/3/2021 7:22:31 PM By Reporter- rajesh kashyap kanpur

गुर्दे के कोनिक रोगियों की संख्या हुई 1 लाख
U- उचित इलाज व देखभाल से अग्रसर की प्रवृत्ति को किया जा सकता है कम: डॉ.निर्भय
हिंदुस्तान न्यूज़ एक्सप्रेस कानपुर।स्वरूप नगर स्थित रीजेन्सी रीनल हॉस्पिटल में प्रेस वार्ता के दौरान डायरेक्टर एवं वरिष्ठ गुर्दा रोग विशेषज्ञ डॉ. निर्भय कुमार ने बताया कि गुर्दा प्रत्यारोपण की यह नयी प्रकिया है।प्री-एम्पीटिव किडनी ट्रान्सप्लांट जिसे शुरूआती किडनी ट्रांन्सप्लांट कहा जा सकता है। इस प्रकिया में रोगी को गुर्दा डिसीज की अन्तिम अवस्था में पहुचने के पहले ही सीधे ट्रांन्सप्लांट किया जाता है। इसके कई फायदे है।आगे बताया कि हमारे समाज में गुर्दे के गंभीर रोग (कोनिक गुर्दा रोग) निरन्तर बढ़ता जा रहा है, इस रोग ने महामारी का रूप ले लिया है। एक अनुमान के हिसाब से इस महानगर में गुर्दे के कोनिक रोगियों की कुल संख्या 1 लाख तक पहुंच गयी है। इस रोग के मुख्य कारणों में मधुमेह, उच्च रक्तचाप, कोनिक नेफाइटिस. आनुवार्शिक गुर्दे रोग. मूत्र मार्ग में बाधा जनित रोग और दर्द नाशक दवाओं का लम्बा सेवन है। कोनिक गुर्दा रोग एक निरन्तर अग्रसर होने वाला रोग है उचित इलाज और देखभाल से इसकी अग्रसर होने की प्रवत्ति को धीमा किया जा सकता है।
रोगी को डायलिसिस की कष्टपूर्ण और तनावग्रस्त जीवन से मुक्ति, डायलिसिस के दौरान सम्भावित वाइरल सकमण (हेपेटाइटिस बी, सी तथा एच.आई.वी.) तथा विभिन्न वैबिटिरियल सकंमण से बचाव।डायलिसिस के लिये बनाये जाने वाले साधन (फिस्टुला) या गर्दन में डाले जाने वाले कैथेटर की जरूरत न होना। पेशाब की मात्रा ठीक रहना, जिससे रोगी खान पान आम लोगो की तरह ही ले सकता है और डायलिसिस रोगियों से अधिक स्वस्थ्य रहता है। डायलिसिस के दौरान होने वाली रक्त अल्पतता (एनिमिया) के कारण बार-बार ब्लड चढानें की जरूरत न होना।शुरूआती गुर्दा प्रत्यारोपण से प्रत्यारोपित गुर्दा में शरीर द्वारा रिजेक्ट करने या बहिष्कृत करने की प्रवत्ति कम हो जाती है।

Share this :
   
State News से जुड़े हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए HNS के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें
 
प्रमुख खबरे
कोरोना से लड़ने के लिए आशा संगिनी हुईं प्रशिक्षित
अधिकारियों ने जनपद के सभी मेडिकल स्टोरों में होम आइसोलेशन किट उपलब्ध रहने के दिए गए सख्त आदेश
------85 बूथों के माध्यम से लगाया गया 2692---लोगों को टीका
सदर विधायक मेजर सुनील दत्त ने लोहिया अस्पताल में लगवाई दूसरी डोज
मुख्यमंत्री आरोग्य मेला के साथ जिले में मनाया गया टीका महोत्सव
 
 
 
Copyright © 2016. all Right reserved by Hindustan News Express | Privecy policy | Disclimer Powered By :