होम कानपुर कानपुर आस-पास अपना प्रदेश राजनीति देश/विदेश स्वास्थ्य खेल आध्यात्म मनोरंजन बिज़नेस कैरियर संपर्क
 
  1. इटावा से एक दर्जन से अधिक संख्या में कन्नौज पहुंचे अधिकारी।
  2.      
  3. कागजों की छानबीन में जुटी जी एस टी की टीम।
  4.      
  5. तीन गाड़ियों से इत्र व्यापारी के घर पहुंची टीम।
  6.      
  7. कन्नौज-यूपी जी एस टी की टीम ने इत्र व्यापारी के घर पर मारा छापा
  8.      
 
 
आप यहां है - होम  »  कानपुर  »  असली एवं नकली उर्वरकों की घरेलू स्तर पर हो पहचान:डॉ खलील
 
असली एवं नकली उर्वरकों की घरेलू स्तर पर हो पहचान:डॉ खलील
Updated: 7/3/2022 11:49:00 PM By Reporter- rajesh kashyap kanpur

असली एवं नकली उर्वरकों की घरेलू स्तर पर हो पहचान:डॉ खलील |
हिंदुस्तान न्यूज़ एक्सप्रेस कानपुर | सीएसए के कुलपति डॉक्टर डी.आर. सिंह द्वारा जारी निर्देश के क्रम में 3 जुलाई को दलीप नगर स्थित कृषि विज्ञान केंद्र के मृदा वैज्ञानिक एवं विश्वविद्यालय के मीडिया प्रभारी डॉ खलील खान ने कृषक भाइयों को एडवाइजरी जारी करते हुए बताया कि असली एवं नकली उर्वरकों की पहचान घरेलू स्तर पर स्वयं कृषक भाई कर सकते हैं। मृदा वैज्ञानिक डॉक्टर खलील खान ने बताया कि खरीफ का मौसम चल रहा है ऐसे भी किसान भाई खरीफ की फसलों में रासायनिक उर्वरकों का प्रयोग करते हैं। इसलिए जरूरी है कि किसान भाई रासायनिक उर्वरकों को जांच परख लें। उन्होंने कहा कि असली यूरिया के दाने सफेद चमकदार और एक समान आकार के होते हैं इसके दाने पानी में पूरी तरह घुल जाते हैं इसके घोल को छूने पर ठंडा महसूस होता है तो यह समझ लेना चाहिए कि यूरिया असली है। अथवा यूरिया के कुछ दानों को गर्म तवे पर रखने से दाने पिघल जाते हैं आंच को तेज कर दें तो इसका कोई अवशेष नहीं बचता है तो किसान भाई समझ लें की ये असली यूरिया है डॉक्टर खान बताया कि इसी तरह से डीएपी के कुछ दानों को हाथ में लेकर उसमें चूना मिलाकर मलने से यदि उसमें तेज गंध आने लगे और सूंघना मुश्किल हो जाए तो समझ ले कि डीएपी असली है दूसरी विधि में डीएपी के कुछ दानों को गर्म तवे पर रखें तवे पर दाने अपने आकार से फूल जाते हैं तो समझे कि यह असली डीएपी है इसी प्रकार से पोटाश के कुछ दानों को नम करें ऐसा करने पर यह यह दाने आपस में नहीं चिपकते हैं तो असली है दूसरी विधि में पोटाश को पानी में घोलने पर इसका लाल भाग पानी के ऊपर तैरता रहता है डॉक्टर खलील खान ने बताया कि इसी प्रकार जिंक सल्फेट को डीएपी के घोल में मिलाने से थक्केदार अवच्छेप बन जाता है तो समझ ले कि असली है इसी प्रकार सुपर फास्फेट उर्वरक की भी पहचान करने इसके कुछ दानों को गर्म तवे पर रखें और यदि यह नहीं फूलते हैं तो असली हैं  डॉक्टर खान ने बताया कि खेती-बाड़ी में उर्वरकों का अपना विशेष महत्व है इससे फसलों की उत्पादकता बढ़ाने में मदद मिलती है उन्होंने किसान भाइयों से अपील की है कि वे उर्वरक खरीदते समय उर्वरक विक्रेता से रसीद अवश्य ले लें।


Share this :
   
State News से जुड़े हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए HNS के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें
 
प्रमुख खबरे
पौधों की नर्सरी हेतु ग्रामीण जागरुकता विषय पर कराया प्रशिक्षण
देश के महान सपूतों की गाथा का मन भावन की गई प्रस्तुति
स्वतंत्रता दिवस पर शहर हुआ तिरंगामय, हुए ध्वजारोहण के आयोजन
शहीद स्मारक पर वीरता,अदम्य साहस को सराहकर किया सत सत नमन
शहीदों के परिजनों को किया गया सम्मानित
 
 
 
Copyright © 2016. all Right reserved by Hindustan News Express | Privecy policy | Disclimer Powered By :