होम कानपुर कानपुर आस-पास अपना प्रदेश राजनीति देश/विदेश स्वास्थ्य खेल आध्यात्म मनोरंजन बिज़नेस कैरियर संपर्क
 
  1. सुप्रसिद्ध गज़ल गायक पंकज उदास नहीं रहे
  2.      
  3. उत्तर प्रदेश/कानपुर-एडीजी जोन ने निर्वाचनों में अपने मताधिकार के प्रयोग की दिलाई शपथ
  4.      
  5. उत्तर प्रदेश/कानपुर देहात-एडीजी जोन ने नवनिर्मित मीडिया सेंटर कक्ष का किया उद्घाटन
  6.      
  7. उत्तर प्रदेश/कानपुर-छात्र-छात्राओं का शैक्षणिक भ्रमण दल आया वापस, कुलपति ने दी बधाई
  8.      
  9. उत्तर प्रदेश/कानपुर -उ.प्र. दिवस का सीएसए सभागार में विस अध्यक्ष ने दीप प्रज्ज्वलित कर किया शुभारंभ।
  10.      
  11. उत्तर प्रदेश/वाराणसी- माता मंगलागौरी के अन्नकूट श्रृंगार महोत्सव के अवसर पर निकाला गयी भव्य कलश यात्रा
  12.      
  13. उत्तर प्रदेश- कानपुर राष्ट्रीय मतदाता दिवस पर पेटिंग, पोस्टर व रंगोली प्रतियोगिता का आयोजन
  14.      
  15. चमनगंज पुलिस व फायर ब्रिगेड मौके पर।
  16.      
  17. उत्तर प्रदेश -कानपुर थाना चमनगंज अंतर्गत रूपम चौराहे के पास बिल्डिंग में लगी भीषण आग।
  18.      
  19. उत्तर प्रदेश वाराणसी-दर्शनार्थियों ने सामूहिक फांसी लगा दी जान मचा कोहराम
  20.      
  21. वाराणसी -40 वां श्री श्याम महोत्सव अत्यंत हर्षोल्लास के साथ मनाया गया।
  22.      
  23. वाराणसी-दीक्षा महिला कल्याण शोध संस्थान का 7वें वार्षिकोत्सव का हुआ आयोजन
  24.      
  25. कानपुर- केशव मधुवन सेवा समिति, केशव नगर द्वारा मंगलवार को करवा चौथ के उपलक्ष में समिति द्वारा महिलाओं के लिए निःशुल्क मेंहदी शिविर कार्यक्रम का आयोजन केशव मधुवन वाटिका,केशव नगर में किया गया।
  26.      
  27. कानपुर -सीएसए में देश के पहले उप प्रधानमंत्री और गृहमंत्री सरदार बल्लभ भाई पटेल की 148वी जयंती राष्ट्रीय एकता के रूप में मनाई गई।
  28.      
  29. कानपुर -सीएसए के अधीन संचालित कृषि विज्ञान केंद्र, इटावा,मैनपुरी एवं औरैया जनपद में स्थित कृषि विज्ञान केन्द्रो का किया दौरा
  30.      
  31. कानपुर-एडीजी जोन ने लौहपुरुष के तैलचित्र पर किया माल्यार्पण |
  32.      
  33. कानपुर-पुलिस आयुक्त ने राष्ट्रीय एकता एवं अखण्डता की दिलाई शपथ
  34.      
  35. कानपुर -आर्युवेद से कई बीमारियों का सफल इलाज- वैद्य बालेन्द्रू प्रकाश
  36.      
  37. कानपुर -सीएसए के अधीन संचालित कृषि विज्ञान केंद्र दलीप नगर पर बीएससी कृषि सप्तम सेमेस्टर की छात्राओं का ग्रामीण कृषि कार्य अनुभव प्रारंभ हुआ।
  38.      
  39. कानपुर- गंगा टास्क फोर्स और 54 एनसीसी कैडेटस ने मिलकर स्वच्छता अभियान चलाया।
  40.      
 
 
आप यहां है - होम  »  स्वास्थ्य  »  मलाशय कैंसर का इलाज करना काफी महत्वपूर्ण : डॉ असित अरोड़ा
 
मलाशय कैंसर का इलाज करना काफी महत्वपूर्ण : डॉ असित अरोड़ा
Updated: 11/25/2023 8:49:00 PM By Reporter- rajesh kashyap kanpur

मलाशय कैंसर का इलाज करना काफी महत्वपूर्ण : डॉ असित अरोड़ा |
हिंदुस्तान न्यूज़ एक्सप्रेस कानपुर | रेक्टल कैंसर बड़ी आंत के आखिरी हिस्से मलाशय को प्रभावित करती  है। भारत में ये बड़ी स्वास्थ्य चिंता का विषय है, क्योंकि इसकी घटना दर में वृद्धि हो रही है। मलाशय कैंसर का जल्दी पता लगाना और इलाज करना काफी महत्वपूर्ण है। डॉ। असित अरोड़ा, निदेशक - जीआई और एचपीबी सर्जिकल ऑन्कोलॉजी, मैक्स हॉस्पिटल साकेत बताते है कि  मेडिकल टेक्नोलॉजी में प्रगति के चलते मरीजों को अब बेहतर इलाज के कई विकल्प मौजूद हैं। रेक्टल कैंसर के इलाज और मलाशय कैंसर के चरणों को समझने के लिए रेक्टल कैंसर के चरण इस प्रकार हैं,  स्टेज जीरो में कैंसर मलाशय की अंदरूनी परत तक ही सीमित होता है। प्रथम  स्टेज   में कैंसर मलाशय की गहरी परतों तक बढ़ जाता है लेकिन पास के लिम्फ नोड्स तक नहीं पहुंचता है। दूसरा स्टेज में: कैंसर मलाशय की दीवार के माध्यम से बढ़ जाता है और आस-पास के ऊतकों या अंगों पर आक्रमण कर सकता है लेकिन आस-पास के लिम्फ नोड्स में नहीं फैलता है। तिसरे चरण में  कैंसर निकटवर्ती लिम्फ नोड्स तक बढ़ जाता है लेकिन अन्य अंगों में नहीं फैलता है। चौथे स्टेज  में  कैंसर लीवर, फेफड़े और हड्डियों सहित अन्य अंगों और ऊतकों में फैल जाता है। अगर जल्दी पता चल जाए और सही समय पर मैनेज कर लिया जाए तो मलाशय कैंसर का इलाज संभव है। रेक्टल कैंसर के लिए रेक्टल सर्जरी सबसे आम उपचार है। स्टेज जीरो रेक्टल कैंसर के लिए कैंसरग्रस्त ऊतक का सर्जिकल छांटना अक्सर इलाज योग्य होता है। रेक्टल कैंसर सर्जरी रेक्टल कैंसर के चरण I, II और III के उपचार का केंद्र है, जो व्यक्तिगत मामले के आधार पर कीमोथेरेपी या विकिरण थेरेपी से पहले या बाद में हो सकती है। कुछ मामलों में, इन उपचारों के संयोजन का उपयोग किया जा सकता है।
मलाशय कैंसर के लिए इलाज के विकल्प के रूप में , मलाशय की सर्जरी , लो एन्टीरियर रिसेक्शन, एब्डोमिनोपेरीनियल रिसेक्शन (एपीआर), ट्रांसएनल एंडोस्कोपिक माइक्रोसर्जरी (टीईएम), ट्रांसएनल मिनिमली इनवेसिव सर्जरी (टैमिस) लेप्रोस्कोपिक सर्जरी रोबोटिक सर्जरी सबसे आम उपचार है।

Share this :
   
State News से जुड़े हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए HNS के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें
 
प्रमुख खबरे
चिकित्सकों ने ग्रोथ सिम्पोशियम कार्यक्रम का दीप प्रज्ज्वलित कर की शुरुआत
डॉ. सूर्यकान्त पहले डॉ. अंजू गुप्ता ओरेशन अवार्ड से सम्मानित
शिशु जन्म के बाद तीन टीके 24 घंटे के अंदर लगवाना ज़रूरी - डीआईओ
विषाक्त भोजन से बीमार हुए सभी 8 बच्चे पूरी तरह से स्वस्थ- डॉ ए के आर्या
अस्पताल में अचानक आग से कैसे सुरक्षा हो पैरामेडिकल छात्रों को दिए टिप्स
 
 
 
Copyright © 2016. all Right reserved by Hindustan News Express | Privecy policy | Disclimer Powered By :