होम कानपुर कानपुर आस-पास अपना प्रदेश राजनीति देश/विदेश स्वास्थ्य खेल आध्यात्म मनोरंजन बिज़नेस कैरियर संपर्क
 
  1. इटावा से एक दर्जन से अधिक संख्या में कन्नौज पहुंचे अधिकारी।
  2.      
  3. कागजों की छानबीन में जुटी जी एस टी की टीम।
  4.      
  5. तीन गाड़ियों से इत्र व्यापारी के घर पहुंची टीम।
  6.      
  7. कन्नौज-यूपी जी एस टी की टीम ने इत्र व्यापारी के घर पर मारा छापा
  8.      
 
 
आप यहां है - होम  »  स्वास्थ्य  »  स्तनपान से होता है शिशु का शारीरिक व मानसिक विकास : डीपीओ
 
स्तनपान से होता है शिशु का शारीरिक व मानसिक विकास : डीपीओ
Updated: 8/4/2022 9:43:00 PM By Reporter- rajesh kashyap kanpur

स्तनपान से होता है शिशु का शारीरिक व मानसिक विकास : डीपीओ  

स्तनपान सप्ताह में आंगनबाड़ी केंद्रों में चलाई जा रही गतिविधियां

धात्री महिलाओं को किया जा रहा जागरूक

हिंदुस्तान न्यूज़ एक्सप्रेस कानपुर नगरन वजात शिशुओं के लिए स्तनपान अमृत के समान होता है। शिशुओं के लिए छह माह तक सिर्फ मां का दूध ही लाभदायक होता है, इससे शिशुओं का बाल्यकाल भी स्वस्थ्य रहता है, आगे चलकर शारीरिक व मानसिक रूप से भी बच्चा सुदृढ़ बनता है। स्तनपान को बढ़ावा देने के लिए सात अगस्त तक ‘स्तनपान सप्ताह’ चल रहा है। आंगनबाड़ी केंद्रों में गतिवधियों के माध्यम से गर्भवती व धात्री महिलाओं को जागरूक किया जा रहा है।

जिला कार्यक्रम अधिकारी दुर्गेश प्रताप सिंह ने बताया कि नवजात शिशुओं के लिए 6 माह तक सिर्फ मां का दूध पिलाना ही फायदेमंद है। इस दौरान धात्री महिलाओं को अपने 2 साल तक के बच्चों को ऊपरी आहार के साथ मां के दूध का सेवन अवश्य कराएं। अगर गर्भावस्था के दौरान गर्भवती महिलाएं पौष्टिक आहार ले तो शिशु भी स्वस्थ होगा। स्तनपान कराते समय सही बैठने पर ध्यान देना चाहिए। स्तनपान कराने से बच्चें और मां के बीच विशेष जुड़ाव बनता हैं। इस सप्ताह में अन्न प्राशन, कुपोषण के प्रति जागरूकता इत्यादि गतिवधियां भी आयोजित होंगी।

डीपीओ ने बताया कि मां का दूध शिशुओं को कुपोषण व अतिसार जैसी बीमारियों से बचाता है। स्तनपान को बढ़ावा देकर शिशु मृत्यु दर में कमी लाई जा सकती है। उन्होंने मां के दूध की विशेषताओं के बारे में बताते हुए कहा कि मां के दूध में ज़रूरी पोषक तत्व, एंटी बाडीज, हार्माेन, प्रतिरोधक कारक और ऐसे आक्सीडेंट मौजूद होते हैं जो नवजात शिशु के बेहतर विकास और स्वास्थ्य के लिए ज़रूरी होते हैं।

स्तनपान से मां को लाभ

 गर्भाश्य का संकुचन हो जाता है जिससे आंचल आसानी से छूट जाती है।

 प्रसव के बाद अत्याधिक रक्तस्राव का खतरा कम हो जाता है।

 स्तन कैंसर, गर्भाश्य कैंसर और अंडाशय के कैंसर का खतरा कम हो जाता है।

 हड्डियों के कमजोर पड़ने के प्रकरण कम हो जाते हैं।

 परिवार नियोजन में कुछ हद तक सहयोग प्राप्त होता है।

Share this :
   
State News से जुड़े हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए HNS के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें
 
प्रमुख खबरे
उत्कृष्ट कार्य पर किए गए सम्मानित
अमृत महोत्सव के तहत शिविर लगाकर मरीजों का नेत्र परीक्षण
मुख एवं दंत रोगों के उपचार का सीएचओ को दिया प्रशिक्षण
मुख व दन्त रोगियों की स्क्रीनिंग के लिए अभियान आज से
डीएम और पूर्व विधायक ने बच्चों को पिलाई विटामिन ए की खुराक
 
 
 
Copyright © 2016. all Right reserved by Hindustan News Express | Privecy policy | Disclimer Powered By :