होम कानपुर कानपुर आस-पास अपना प्रदेश राजनीति देश/विदेश स्वास्थ्य खेल आध्यात्म मनोरंजन बिज़नेस कैरियर संपर्क
 
  1. कानपुर-हैलट अस्पताल पहुंचे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ
  2.      
  3. 58 साल की उम्र में राजू श्रीवास्तव का निधन।
  4.      
  5. दिल्ली एम्स में भर्ती थे राजू श्रीवास्तव।
  6.      
  7. दिल्ली-कॉमेडियन राजू श्रीवास्तव का निधन।
  8.      
  9. उत्तर प्रदेश-मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज विधानभवन, लखनऊ परिसर में विधानसभा सत्र के दौरान विधायकों के लिए स्वास्थ्य शिविर का किया उद्घाटन।
  10.      
  11. टीचर,लगातार कई थप्पड़ भी मारे,भाई बहन दोनो को कई दिनों से रहा था पीट,बच्चों की शिकायत पर पिता ने बच्चों के कमरे में लगवा दिया सीसीटीवी कैमरा,टीचर की करतूत सीसीटीवी में कैद,सौरिख क्षेत्र का मामला।
  12.      
  13. कन्नौज- टीचर की क्रूरता का वीडियो हुआ वायरल,मासूम बच्चों के बुरी तरह बाल-कान घसीटकर पीट रहा
  14.      
  15. चोरी की घटना को अंजाम देने के बाद पुलिस पीट रही अब लकीर।सदर कोतवाली क्षेत्र के सरायमीरा की घटना।
  16.      
  17. लाखों का माल लेकर बड़ी आसानी से हो गए चंपत।
  18.      
  19. कन्नौज के चहल पहल भरे इलाके में चोरों ने तीन दुकानों को बनाया निशाना।
  20.      
  21. कन्नौज- कन्नौज पुलिस की रात्रि गश्त के दावे कन्नौज में दिख रहे फुस।
  22.      
  23. आग लगने की वजह पतंग की डोर बताई जा रही है,सब स्टेशन में आग लगने से कई क्षेत्रों की बिजली हुई गुल।
  24.      
  25. फायर ब्रिगेड को दी गई सूचना पर पहुंची गाड़ी ने कड़ी मशक्कत के बाद आग पर पाया काबू
  26.      
  27. आग लगते ही धू-धू कर जलने लगे ट्रांसफार्मर
  28.      
  29. आग लगते ही धू-धू कर जलने लगे ट्रांसफार्मर
  30.      
  31. कानपुर-पालिका स्टेडियम के पीछे सब स्टेशन में लगी भीषण आग
  32.      
  33. इटावा से एक दर्जन से अधिक संख्या में कन्नौज पहुंचे अधिकारी।
  34.      
  35. कागजों की छानबीन में जुटी जी एस टी की टीम।
  36.      
  37. तीन गाड़ियों से इत्र व्यापारी के घर पहुंची टीम।
  38.      
  39. कन्नौज-यूपी जी एस टी की टीम ने इत्र व्यापारी के घर पर मारा छापा
  40.      
 
 
आप यहां है - होम  »  अपना प्रदेश  »  विश्व प्रसिद्ध देव दीपावली व गंगा की महाआरती इस वर्ष कार्तिक पूर्णिमा 7 नवम्बर 2022 को मनेगी।
 
विश्व प्रसिद्ध देव दीपावली व गंगा की महाआरती इस वर्ष कार्तिक पूर्णिमा 7 नवम्बर 2022 को मनेगी।
Updated: 9/16/2022 8:18:00 AM By Reporter- praduman panday

विश्व प्रसिद्ध देव दीपावली व गंगा की महाआरती इस वर्ष कार्तिक पूर्णिमा 7 नवम्बर 2022 को मनेगी।
हिंदुस्तान न्यूज़ एक्सप्रेस वाराणसी ज्योतिषविदों, काशी विद्वत परिषद के परामर्श के उपरान्त केन्द्रीय देव दीपावली महासमिति, गंगा सेवा निधि, गंगोत्री सेवा समिति, जय न गंगा सेवा समिति सहित अन्य समितियों ने तैयारियां शुरू की।
विश्व प्रसिद्ध देव दीपावली व गंगा महाआरती महोत्सव इस वर्ष 7 नवम्बर 2022 को उत्साह के साथ मनायी जायेगी। उस दिन कार्तिक पूर्णिमा के पावन दिवस का श्री गणेश अपरान्ह 3:54 बजे से हो रहा है. जो अगले दिन 8 नवम्बर, मंगलवार को अपरान्ह 3.53 बजे तक है। उस दिन वैकुण्ठ चर्तुदशी का पर्व है उसी दिन ज्ञानवापी स्थित मंदिर में महारानी अहिल्याबाई होल्कर ने वर्ष 1734 में बाबा विश्वनाथ की स्थापना की थी। प्रभु कृपा से उस दिन सोमवार का दिन भी है। अगले दिन 8 नवम्बर, मंगलवार को चन्द्रग्रहण है, उस काल में भोग आरती आदि सम्भव नही है। अतः 7 नवम्बर को देव दीपावली व गंगा आरती महोत्सव मनाना शास्त्रोक्त है।उपरोक्त निर्णय काशी के चाचार्यों, संत-महात्मा ज्योविषविदों, काशी विद्वत परिषद व अन्य विशिष्टजनों से विचार-विमर्श के बाद लिया गया है। यह जानकारी केन्द्रीय देव दीपावली महासमिति के अध्यक्ष आचार्य वागीश दत्त मिश्र, गंगा सेवा निधि के मुख्य संरक्षक श्री श्याम लाल सिंह, अध्यक्ष श्री सुशांत मिश्र, गंगोत्री सेवा समिति के सचिव 40 दिनेश शंकर दुबे, जय मां गंगा सेवा समिति के श्री श्रवण कुमार मिश्र ने संयुक्त रुप से आज सायं पत्र- प्रतिनिधियों से बात-चीत में दी है।
आचार्य वागीश दत्त मिश्र ने बताया कि चन्द्रग्रहण के दिन हर वर्ष लाखों की संख्या में श्रद्धालुजन माँ गंगा में गोता लगाते हैं। सुबह से अगले दिन तक हजारों लोग मी गंगा के तट पर ही रहते है। उस दिन सूतक काल प्रातः 8:10 बजे से प्रारम्भ हो रहा है एवं इसका मोक्ष सायं 6:19 बजे हो रहा है, उसके बाद भी स्नान, ध्यान द दान होता रहता है। बड़ी संख्या में श्रद्धालु घाट पर ही आश्रय लेते है। शास्त्रानुसार ग्रहण काल में न तो आरती कर सकते है और ना ही भोग लगा सकते हैं।
उन्होनें बताया है कि श्रद्धालुजनों की सुरक्षा हम सब के लिए सर्वोपरी है, जितना जरूरी देव दीपावली को उत्साह से मनाना है, उससे जरुरी इस महोत्सव व चन्द्रग्रहण में शामिल होने वाले भारतवासियों व विदेशी मेहमानों की सुरक्षा है। इसलिए बाबा विश्वनाथ व माँ गंगा की असीम अनुकम्पा से यह मूहूत मिला है, ताकि संसार के प्रत्येक मानव की मंशा पूर्ण हो सके। प्रभु की कृपा से कार्तिक पूर्णिमा व चन्द्रग्रहण के मुहूत का दिन अलग अलग होने से श्रद्धालुजनों की सुरक्षा के लिए सेवा समितियों व प्रशासन को किसी तरह की कोई असुविधा नही होगी।
उल्लेखनिय है कि कार्तिक पूर्णिमा को देव दीपावली मनाने के लिए पूर्व से ही 7 किलोमीटर से लम्बी य 84 घाटों की धुलाई, सफाई का कार्य शुरु हो जाता है। असंख्य दीपों की धुलाई कर व उसे सुखाकर उसमें बत्ती व सरसों का तेल डालकर घाटों पर तरह-तरह से सजाया जाता है जो सायंएक साथ संख्या बेला में प्रज्वलित किया जाता है और उसी दिन शुभ मुहूर्त में माँ गंगा की महाभारती होती है जिसका दर्शन पाने के लिए इन्सान तो क्या सभी देवी-देवता भी धरती पर अवतरित हो जाते है। ऐसी मनोहारी छवि को निहारने के लिए उस दिन पच्चीस लाख लोग गंगा तट पर उमड़ पड़ते है इसलिए देव दीपावली व चन्द्रग्रहण अच्छे से सम्पन्न हो जाए, प्रभु ने इसका प्रावधान किया है। सभी श्रद्धालुजन अपनी क्षमतानुसार अधिक से अधिक लोगों के संज्ञान में उपरोक्त जानकारी पहुंचाने की कृपा करे और सौहार्दपूर्ण वातावरण में दोनों कार्यक्रमों को अच्छे ढंग से सम्पन्न कराने में सहभागी चन स्वयं के जीवन को उल्लासमय बनायें यह कार्यक्रम हम सभी का है।
पत्रकार वार्ता में बनारस होटल एसोशिएशन के अध्यक्ष श्री गोकुल शर्मा, टूरिज्म वेलफेयर एसोशिएशन के अध्यक्ष श्री राहुल मेहता, गंगा सेवा निधि के ट्रस्टी श्री आशीष तिवारी, सचिव श्री हनुमान यादव, काशी गंगा सेवा समिति के श्री मनीष पाण्डेय आदि प्रमुख लोग उपस्थित थे।

Share this :
   
State News से जुड़े हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए HNS के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें
 
प्रमुख खबरे
भा0 कि0 यू0 अजगर प्रदेश अध्यक्ष व जिलाध्यक्ष का कार्यकर्ताओं ने किया जोरदार स्वागत
एसपी ग्रामीण ने पुलिस कर्मियों के साथ राजातालाब कस्बा में किया पैदल गस्त दिया सुरक्षा का भरोसा
एयरपोर्ट पर हिंदी पखवाड़ा के अंतर्गत हिंदी प्रश्नोत्तरी का हुआ आयोजन
धनुष टूटते ही गूँजा जय श्रीराम का उद्घोष
श्री राम ने तोड़ा शिव धनुष तो शुरू हुई लक्ष्मण परशुराम संवाद
 
 
 
Copyright © 2016. all Right reserved by Hindustan News Express | Privecy policy | Disclimer Powered By :