होम कानपुर कानपुर आस-पास अपना प्रदेश राजनीति देश/विदेश स्वास्थ्य खेल आध्यात्म मनोरंजन बिज़नेस कैरियर संपर्क
 
  1. मैनपुरी में आज सपा सांसद डिंपल यादव ने अखिलेश यादव के साथ कियाऐ एए ऐनामांकन।
  2.      
  3. कन्नौज - चुनाव ड्यूटी के लिये जिले से रवाना हुआ पुलिस फोर्स। 8 बसों से 8 लोकसभा सीटों पर चुनाव कराने रवाना हुआ फोर्स। एएसपी डॉ संसार सिंह ने हरी झंडी दिखाकर किया रवाना। पुलिस लाइन से फोर्स को लेकर रवाना हुई बसें। एक दिन पहले एसपी ने फोर्स को किया था ब्रीफ। जिले के करीब 500 पुलिस अफसरों, कर्मियों की चुनाव में लगी है ड्यूटी।
  4.      
  5. सफाई व्यवस्था दुरुस्त हो इसके चलते सफाई ठेकेदार को दिए गए सुझाव।
  6.      
  7. रक्त परीक्षण विभाग में लगी मरीजों की भीड़ देखकर संबंधितों को दिए दिशा निर्देश।
  8.      
  9. वार्डों सहित रक्त परीक्षण विभाग एवं ओपीडी की व्यवस्थाओं का लिया जायजा।
  10.      
  11. कन्नौज ।मुख चिकित्सा अधीक्षक डॉक्टर शक्ति वसु ने किया संयुक्त जिला अस्पताल का दैनिक निरीक्षण ।
  12.      
  13. कन्नौज - तेज धमाके के साथ पुराने मकान के उड़े दरवाजे। तेज धमाका सुन इलाके में मचा हड़कंप। सूचना पर पहुंची पुलिस व फॉरेंसिक टीम ने शुरू की जांच। धमाके में नही हुआ कोई जान माल का नुकसान। घटना स्थल से पुलिस को रखे मिले पुराने पटाखे। फॉरेंसिक टीम ने साक्ष्य इक्कठा कर लैब भेजे। कोतवाल दिग्विजय सिंह बोले जल्द सने होगी सच्चाई। सदर कोतवाली क्षेत्र के बगिया फजल ईमाम मोहल्ले का मामला।
  14.      
  15. कन्नौज - घर घर वोटिंग के लिये जागरुक कर रहे सिलेंडर। गैस सिलेंडर में चिपकाए जा रहे वोटिंग के लिये जागरुक करने वाले स्टीकर। जिला पूर्ति विभाग ने शुरू कराया जागरुकता अभियान। सिलेंडर ढोने वाले वाहनों को बनाया मतदाता जागरुकता रथ। सदर स्थित गैस एजेंसी से हुई मतदाता जागरुकता अभियान की शुरुआत। डीएसओ राजेश कुमार मिश्रा बोले आयोग के निर्देशानुसार शुरू किया गया जागरुकता अभियान।
  16.      
  17. उत्तर प्रदेश -कन्नौज यूनियन बैंक में लगी भीषण आग। आग से बैंक पूरी तरह जलकर राख। सूचना पर पहुंची दमकल की तीन गाड़ियां आग बुझाने में जुटी। होली की छुट्टी के कारण आज बन्द थी बैंक। लाखों कैश और अभिलेख सहित कम्प्यूटर जलकर नष्ट होने की आशंका। शार्ट सर्किट बताया जा रहा आग लगने का कारण। छिबरामऊ के पश्चिमी बाईपास पर स्थित यूनियन बैंक शाखा में लगी आग। छिबरामऊ कोतवाल भारी फोर्स के साथ मौके पर मौजूद।
  18.      
  19. उत्तर प्रदेश कन्नौज-कन्नौज कार की टक्कर से बाइक सवार डॉक्टर की मौत, घटना के बाद परिजनों में मचा हड़कंप,गुस्साए डॉक्टरों व छात्राऑ ने हाइवे किया जाम,पुलिस ने कार को पकड़ा,मेडिकल कॉलेज में तैनात थे,डॉक्टर तिर्वा के राजकीय मेडिकल कॉलेज के सामने का मामला
  20.      
  21. उत्तर प्रदेश कन्नौज-कन्नौज -तेज रफ्तार ट्रक ने बाइक सवारों को मारी टक्कर, हादसे में बाइक सवार दो लोगों की घटनास्थल पर दर्दनाक मौत, एक युवक की हालत गंभीर, हादसे के बाद ट्रक चालक गाड़ी लेकर मौके से हुआ फरार, मौके पर पहुंची पुलिस, इंदरगढ़ थाना क्षेत्र के अगौस गांव के पास की घटना।
  22.      
  23. उत्तर प्रदेश कन्नौज -कन्नौज पहुंचे केंद्रीय मंत्री एसपी सिंह बघेल ,बीजेपी कार्यालय पर कार्यकर्ताओं के साथ बैठक की,अखिलेश और कांग्रेस पर बोला हमला ,वन नेशन वन इलेक्शन का समर्थन किया
  24.      
  25. उत्तर प्रदेश-औरैया एक भ्रष्ट खंड शिक्षा अधिकारी ₹30000 लेते हुए रंगे हाथ गिरफ्तार।
  26.      
  27. सुप्रसिद्ध गज़ल गायक पंकज उदास नहीं रहे
  28.      
  29. उत्तर प्रदेश/कानपुर-एडीजी जोन ने निर्वाचनों में अपने मताधिकार के प्रयोग की दिलाई शपथ
  30.      
  31. उत्तर प्रदेश/कानपुर देहात-एडीजी जोन ने नवनिर्मित मीडिया सेंटर कक्ष का किया उद्घाटन
  32.      
  33. उत्तर प्रदेश/कानपुर-छात्र-छात्राओं का शैक्षणिक भ्रमण दल आया वापस, कुलपति ने दी बधाई
  34.      
  35. उत्तर प्रदेश/कानपुर -उ.प्र. दिवस का सीएसए सभागार में विस अध्यक्ष ने दीप प्रज्ज्वलित कर किया शुभारंभ।
  36.      
  37. उत्तर प्रदेश/वाराणसी- माता मंगलागौरी के अन्नकूट श्रृंगार महोत्सव के अवसर पर निकाला गयी भव्य कलश यात्रा
  38.      
  39. उत्तर प्रदेश- कानपुर राष्ट्रीय मतदाता दिवस पर पेटिंग, पोस्टर व रंगोली प्रतियोगिता का आयोजन
  40.      
 
 
आप यहां है - होम  »  स्वास्थ्य  »  गर्मियों में करे नवजात शिशुओं की बेहतर देखभाल |
 
गर्मियों में करे नवजात शिशुओं की बेहतर देखभाल |
Updated: 4/2/2024 12:15:00 AM By Reporter- rajesh kashyap kanpur

गर्मियों में करे नवजात शिशुओं की बेहतर देखभाल |
हिंदुस्तान न्यूज़ एक्सप्रेस कानपुर | सीएसए  के अधीन संचालित कृषि विज्ञान केंद्र दिलीप नगर की गृह वैज्ञानिक डॉक्टर निमिषा अवस्थी में बताया कि जैसे-जैसे मौसम में तपिश बढ़ती जाती है, हमारे लिए जरूरी है कि हम अपने स्वास्थ्य का ध्यान का, अपनी लाइफस्टाइल और खानपान का पूरा ध्यन रखें ताकि शरीर में पानी की कमी न हो, जिससे तबियत खराब न हो। इसी तरह, नाए जन्मे शिशु को भी स्पेशल केयर की जरूरत होती है। दरअसल, नए जन्मे शिशुओं के लिए बाहरी वातावरण और मौसम बिल्कुल नया होता है। उन्हें बाहरी चीजों के साथ तालमेल बैठाने में मुश्किलें आ सकती हैं। ऐसे में अगर गर्मी में उनकी अच्छी तरह देखभाल न की जाए, तो उनकी भी तबियत बिगड़ सकती है। इसलिए कुछ बातों का खयाल रखना जरूरी होता है | 
आमतौर पर नवजात शिशुओं को गुनगुने पानी से नहलाया जाता है, क्योंकि उनका शरीर ठंडा पानी सहने के योग्य नहीं होता है। इसके अलावा, शिशुओं को रोजाना नहलाने के बजाय बॉडी स्पंज भी किया जाता है। वैसे, बच्चे को रोजाना भी नहलाया जा सकता है। लेकिन, उसे लंबे समय के लिए पानी में न रखें। ऐसा करने से उसकी तबियत बिगड़ सकती है। आपको चाहिए कि गर्मी में उसे रोजाना कम पानी में नहलाएं।  
शिशु को ना हो पानी की कमी
आमतौर छोटे बच्चों को 6 माह तक पानी नहीं दिया जाना चाहिए और 6 माह के बाद उसे ओआरएस का घोल पिला सकते हैं। अगर नवजात शिशु पूरी तरह से अपनी मां पर निर्भर होता है, तो ऐसे में मां को चाहिए कि वह समय-समय पर अपने शिशु को स्तनपान कराती रहें, ताकि उसके शरीर में पानी की कमी न हो। अगर आपका बच्चा 6 माह से बड़ा है और आप उसे बाहरी आहार देती हैं, तो उसे ओआरएस का घोल पिलाएं। साथ ही ये भी नोटिस करें कि वह एक दिन में कितनी बार पेशाब करता है। अगर वह 7-8 बार 24 घंटे के अंदर पेशाब करता है, तो इसका मतलब है कि बच्चे को डीहाइड्रेशन नहीं है। डीहाइड्रेशन होने पर बच्चा पेशाब कम करता है। इसके अलावा, बच्चे को हाइड्रेट रखने के लिए रूम का टेम्प्रेचर भी सही होना चाहिए। कमरे का तापमान 26-28 डिग्री तक रखने की कोशिश करें।
दोपहर में घर से बाहर न निकलें
जरूरत न होने पर दोपहर के समय नवजात शिशु को लेकर घर से बाहर न निकलें। बाहर की धूप और गर्मी की तपिश न तो शिशु के स्वास्थ्य के लिए सही है और न ही उसकी स्किन के लिए। कई बार ऐसा होता है कि नवजात शिशु को दोपहर में बाहर ले जाया जाए, तो उनकी स्किन झुलस जाती है और शरीर में लाल-लाल चकत्ते हो जाते हैं। कुछ बच्चों को धूप की वजह से रैशेज (त्वचा में लालपन के साथ दाने)की समस्या भी होने लगती है। इसलिए, आप कोशिश करें कि बच्चे को लेकर इस समय बाहर न निकलें।
सूती के कपड़े पहनाएं
गर्मी के दिनों में शिशु को सूती के कपड़े पहनाना बहुत जरूरी होती है। इन दिनों आप उसे किसी ऐसे फैब्रिक के कपड़े न पहनाएं, जिससे उसकी स्किन में प्रॉब्लम हो और वह असहज रहे। ध्यान रखें, नवजात शिशु के लिए सही फैब्रिक चुनना बहुत जरूरी है ताकि गर्मी सहन करने में उसे असुविधा न हो। इसके अलावा, अगर उसे पसीना आए, तो सूती के कपड़ा पसीना सोख ले। इससे उसे गर्मी कम लगेगी और गर्मी से होने वाली समस्याएं भी कम होंगी।

डायपर कम पहनाएं नवजात शिशु के लिए इन दिनों ज्यादातर माताएँ डायपर्स का इस्तेमाल करती हैं। हालांकि, डायपर की वजह से महिलाओं को काफी राहत हो जाती है और बच्चे का कपड़ा भी बार-बार गीला नहीं होता है। लेकिन, ध्यान रखें कि गर्मी के सीजन में बच्चे को लंबे समय के लिए डायपर पहनाने से त्वचा में रैशेज हो सकते हैं, पसीना आ सकता है और अन्य समस्याएं हो सकती हैं। अक्सर ऐसे समस्याओं से बचने के लिए माएं पाउडर का इस्तेमाल करती हैं। इससे बच्चे को दिक्कत हो सकती है। अगर उसे डायपर की वजह से पसीना आ रहा हो, तो उसकी स्किन को हाथ से थपथपाते हुए पोंछ दें। आपके नए जन्मे शिशु के साथ डायपर की कारण कोई समस्या न हो,  इसके लिए आप उसे सिर्फ रात को सोते समय डायपर भले ही  पहनाए लेकिन दिन के समय डायपर ना पहनायें मच्छरों से सुरक्षा : गर्मियों के दौरान मच्छर ज्यादा होते हैं, जिस कारण डेंगू, मलेरिया और चिकनगुनिया जैसी बीमारियों की आशंका बनी रहती है। इन सभी से बचने के लिए बच्चों को मच्छरों से बचाना भी जरूरी है। इसके लिए मच्छरदानी का प्रयोग करना सबसे बेहतर विकल्प है। घर से बाहर जाते समय मच्छररोधी लोशन जरूर लगाएं| 
गर्मीं के दौरान अक्सर बच्चों की त्वचा पर छोटे-छोटे दाने दिखाई देने लगते हैं। इन्हें आम भाषा में घमौरिया कहते हैं। अधिक पसीने के कारण इस तरह की समस्या पैदा होती है। इसमें जलन और खुजली हो सकती, जिससे बच्चे परेशान रहते हैं। घमौरिया से आराम पाने के लिए सूती कपड़ों का प्रयोग करना चाहिए। इसके लिए कुछ घरेलू उपचार किए जा सकते हैं, जैसे ओटमील स्नान, एलोवेरा जेल की कोमल मालिश, बेकिंग सोडा, चंदन पाउडर या मुल्तानी मिट्टी का लेप। नीम के पत्तों को पानी में उबालकर इसके पानी से बच्चों को नहलाना भी घमौरियों से राहत दे सकता है। स्थिति अगर गंभीर हो, तो बच्चे को डॉक्टर को दिखाना जरूरी हैं, क्योंकि इससे बच्चे को असुविधा महसूस हो सकती है | 

Share this :
   
State News से जुड़े हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए HNS के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें
 
प्रमुख खबरे
गर्भावस्था में दो बार और बच्चों का पांच साल में सात बार टीकाकरण अनिवार्य
उत्तर प्रदेश आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय में नए पीजी कोर्स की हुई शुरुआत
डाक्टरो ने पेश की मानवता की मिसाल, चार साल के बच्चे का किया सफल आपरेशन
निःसंतान दम्पतियों के लिए आशा की किरण है पीआरपी थेरेपी
चिकित्सको ने बीमारियों की गम्भीरता के विषय में डाला प्रकाश
 
 
 
Copyright © 2016. all Right reserved by Hindustan News Express | Privecy policy | Disclimer Powered By :