होम कानपुर कानपुर आस-पास अपना प्रदेश राजनीति देश/विदेश स्वास्थ्य खेल आध्यात्म मनोरंजन बिज़नेस कैरियर संपर्क
 
  1. कानपुर-हैलट अस्पताल पहुंचे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ
  2.      
  3. 58 साल की उम्र में राजू श्रीवास्तव का निधन।
  4.      
  5. दिल्ली एम्स में भर्ती थे राजू श्रीवास्तव।
  6.      
  7. दिल्ली-कॉमेडियन राजू श्रीवास्तव का निधन।
  8.      
  9. उत्तर प्रदेश-मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज विधानभवन, लखनऊ परिसर में विधानसभा सत्र के दौरान विधायकों के लिए स्वास्थ्य शिविर का किया उद्घाटन।
  10.      
  11. टीचर,लगातार कई थप्पड़ भी मारे,भाई बहन दोनो को कई दिनों से रहा था पीट,बच्चों की शिकायत पर पिता ने बच्चों के कमरे में लगवा दिया सीसीटीवी कैमरा,टीचर की करतूत सीसीटीवी में कैद,सौरिख क्षेत्र का मामला।
  12.      
  13. कन्नौज- टीचर की क्रूरता का वीडियो हुआ वायरल,मासूम बच्चों के बुरी तरह बाल-कान घसीटकर पीट रहा
  14.      
  15. चोरी की घटना को अंजाम देने के बाद पुलिस पीट रही अब लकीर।सदर कोतवाली क्षेत्र के सरायमीरा की घटना।
  16.      
  17. लाखों का माल लेकर बड़ी आसानी से हो गए चंपत।
  18.      
  19. कन्नौज के चहल पहल भरे इलाके में चोरों ने तीन दुकानों को बनाया निशाना।
  20.      
  21. कन्नौज- कन्नौज पुलिस की रात्रि गश्त के दावे कन्नौज में दिख रहे फुस।
  22.      
  23. आग लगने की वजह पतंग की डोर बताई जा रही है,सब स्टेशन में आग लगने से कई क्षेत्रों की बिजली हुई गुल।
  24.      
  25. फायर ब्रिगेड को दी गई सूचना पर पहुंची गाड़ी ने कड़ी मशक्कत के बाद आग पर पाया काबू
  26.      
  27. आग लगते ही धू-धू कर जलने लगे ट्रांसफार्मर
  28.      
  29. आग लगते ही धू-धू कर जलने लगे ट्रांसफार्मर
  30.      
  31. कानपुर-पालिका स्टेडियम के पीछे सब स्टेशन में लगी भीषण आग
  32.      
  33. इटावा से एक दर्जन से अधिक संख्या में कन्नौज पहुंचे अधिकारी।
  34.      
  35. कागजों की छानबीन में जुटी जी एस टी की टीम।
  36.      
  37. तीन गाड़ियों से इत्र व्यापारी के घर पहुंची टीम।
  38.      
  39. कन्नौज-यूपी जी एस टी की टीम ने इत्र व्यापारी के घर पर मारा छापा
  40.      
 
 
आप यहां है - होम  »  अपना प्रदेश  »  कोख में मारी गई बेटियों को मिला मोक्ष का अधिकार,आगमन ने किया विशेष अनुष्ठान
 
कोख में मारी गई बेटियों को मिला मोक्ष का अधिकार,आगमन ने किया विशेष अनुष्ठान
Updated: 9/20/2022 12:04:00 AM By Reporter- praduman panday

कोख में मारी गई बेटियों को मिला मोक्ष का अधिकार,आगमन ने किया विशेष अनुष्ठान।
हिंदुस्तान न्यूज़ एक्सप्रेस वाराणसी |  मोक्ष के शहर बनारस में गर्भ में मारी गयी अजन्मी और अभागी बेटियों को मोक्ष अधिकार मिला। गंगा तट दशाश्वमेध घाट पर गर्भ में मारी गयी बेटियों के मोक्ष की कामना के लिए आगमन सामाजिक संस्था ने वैदिक रीति रिवाज के साथ श्राद्ध कर्म किया। आचार्य पं दिनेश शंकर दुबे के आचार्यत्व में पांच ब्राह्मणों के उपस्तिथि में ये विशेष अनुष्ठान हुआ. संस्था के संस्थापक सचिव और श्राद्धकर्ता डॉ संतोष ओझा ने 13 हजार बेटियों का पिंडदान किया। बताते चले कि संस्था हर साल पितृ पक्ष के मातृ नवमी तिथि को ये अनुष्ठान करती है। बदलते दौर में जहां बेटियां समाज में फाइटर प्लेन उड़ाने से लेकर देश के राष्ट्रपति पद की कमान संभाल रही है तो वहीं दूसरी तरह अब भी कुछ लोग पुत्र मोह की चाह में गर्भ में लिंग का परीक्षण कर बेटियों की हत्या कर रहे है. ये भी वहीं अभागी और अजन्मी बेटियां है, जिन्हे उन्ही की माता पिता ने इस धरा पर आने से पहले ही हत्या कर दी।संस्था पिछले 9 सालों से इस अनूठे आयोजन को कर उन्हें मोक्ष का अधिकार दिला रही है।
आयोजन कि शुरुआत शांति पाठ से हुई। जिसके बाद वैदिक ब्राह्मणों ने मंत्रो चार के बीच श्राद्ध कर्म को पूरा कराया। वाराणसी में हुए इस आयोजन में समाज के अलग अलग वर्ग के लोग न सिर्फ साक्षी बने बल्कि उन्होंने मृतक बच्चियों को पुष्पांजलि अर्पित कर उन्हें अपनी श्रद्धा सुमन अर्पित की।  डॉ संतोष ओझा ने बताया कि आगमन सामाजिक संस्था उन अजन्मी बेटियों की आत्मा की शांति के लिए प्रतिवर्ष नैमित्तिक श्राद्ध का आयोजन करती है। संस्था का मानना है कि गर्भ में मारी गयी बेटियों को जीने का अधिकार तो नहीं मिल सका लेकिन उन्हें मोक्ष मिलना ही चाहिए। गर्भपात है हत्या आमतौर पर आमजन द्वारा गर्भपात को एक ऑपरेशन माना जाता हैं लेकिन स्वार्थ में डूबे परिजन यह भूल जाते हैं कि भ्रूण में प्राण-वायु के संचार के बाद किया गया गर्भपात जीव ह्त्या है जो 90% मामले में होता है। साफ़ है कि अधिकाँश गर्भपात के नाम पर जीव -हत्या की जा रही हैं। धर्म -ग्रथो के अनुसार में ऐसे मृत्यु में जीव भटकता है जो परिजनों के दुःख का कारण भी बनता है। शास्त्रीय मान्यताओं के अनुसार किसी जीव की अकाल मृत्यु के बाद मृतक की आत्मा की शांति के लिए शास्त्रीय विधि से पूजन -अर्चन ( श्राद्ध ) करा कर जीव को शांति प्रदान की जा सकती है जिससे उनके परिजनों को अनचाही परेशानियों से राहत मिलती है । सम स्मृति में श्राध्द के पांच प्रकारों का उल्लेख है। नित्य, नैमित्तिक, काम्य ,वृध्दि ,श्राध्दौर और पावैण ।  नैमित्तिक श्राध्द ,एक उद्देश्य को लेकर किये जाते हैं। श्राद्धकर्म का आचार्यत्व पं. दिनेश शंकर दुबे के साथ सीताराम पाठक,विनीत तिवारी,रविशंकर पुरोहित,रोहित पांडेय,रिंकू भंडारी                           ने किया ।  संस्था की ओर से वी पी सिंह,राहुल गुप्ता,मनोज सेठ,जादूगर किरण और जितेन्द्र, राजकृष्ण गुप्ता,शिव कुमार,साधना कुमारी,टिंकू कुमार, हिमांशु गुप्ता,मानस चौरसिया,हरिकृष्ण प्रेमी,रामबली मौर्या व गोपाल शर्मा                                    सहित अन्य लोग शामिल रहे।

Share this :
   
State News से जुड़े हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए HNS के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें
 
प्रमुख खबरे
भा0 कि0 यू0 अजगर प्रदेश अध्यक्ष व जिलाध्यक्ष का कार्यकर्ताओं ने किया जोरदार स्वागत
एसपी ग्रामीण ने पुलिस कर्मियों के साथ राजातालाब कस्बा में किया पैदल गस्त दिया सुरक्षा का भरोसा
एयरपोर्ट पर हिंदी पखवाड़ा के अंतर्गत हिंदी प्रश्नोत्तरी का हुआ आयोजन
धनुष टूटते ही गूँजा जय श्रीराम का उद्घोष
श्री राम ने तोड़ा शिव धनुष तो शुरू हुई लक्ष्मण परशुराम संवाद
 
 
 
Copyright © 2016. all Right reserved by Hindustan News Express | Privecy policy | Disclimer Powered By :